फैशन

सनस्क्रीन की सनब्लॉक?

गर्मियों में, त्वचा को अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। बाहर चिलचिलाती धूप के कारण त्वचा पर खुजली और अंधेरा हो सकता है। इसीलिए धूप में निकलने से पहले त्वचा को सनस्क्रीन या सनब्लॉक से बचाना चाहिए। ये क्रीम सूरज की यूवी किरणों को रोकती हैं और चेहरे की सुंदरता को बनाए रखती हैं। लेकिन सनस्क्रीन और सनब्लॉक दो अलग-अलग प्रकार हैं। आइए जानें दोनों के बीच का अंतर।

* महिलाएं अपनी त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों से बचाने के लिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल करती हैं। सनस्क्रीन सूरज की पराबैंगनी किरणों में से कुछ को अवरुद्ध करता है, जबकि अन्य त्वचा तक पहुंचता है। सनस्क्रीन में ऑक्सीबेनज़ोन और एवोबेनज़ोन जैसे तत्व होते हैं। त्वचा में पूरी तरह से अवशोषित होने के बाद ही सनस्क्रीन पूरी क्षमता से काम करता है। इसलिए बाहर जाने से कम से कम 15 मिनट पहले सनस्क्रीन लगाना चाहिए।

* सनब्लॉक एक लीड की तरह काम करता है। सनब्लॉक परत सूर्य की हानिकारक किरणों को त्वचा तक पहुँचने से रोकती है। सनब्लॉक में टाइटेनियम डाइऑक्साइड और जिंक डाइऑक्साइड जैसे तत्व इसे घना बनाते हैं। सनब्लॉक का मुख्य लक्ष्य सूर्य की पराबैंगनी किरणों को त्वचा तक पहुंचने से रोकना है। इसलिए आप सनब्लॉक लगाने के तुरंत बाद घर से बाहर निकल सकते हैं।

* सनस्क्रीन और सनब्लॉक में से किसे चुनना है यह त्वचा की बनावट, आपकी पसंद और जरूरतों पर निर्भर करता है। यदि आपकी नाजुक और संवेदनशील त्वचा है, तो सनब्लॉक का उपयोग करना उचित है। यदि आप एक ऐसा उत्पाद चाहते हैं जो त्वचा में जल्दी से अवशोषित हो जाए, तो आप सनस्क्रीन चुन सकते हैं। SPF 30 या उच्च क्षमता वाला सनस्क्रीन या सनब्लॉक चुनें।